page-loader

मूल्यह्रास का अर्थ (Depriciation)

    मूल्यह्रास का अर्थ (Depriciation) ************************** परिभाषा: – किसी संपत्ति का मौद्रिक मूल्य उपयोग, पहनने और अप्रचलन के कारण समय के साथ कम हो जाता है। इस कमी को मूल्यह्रास के रूप में मापा जाता है। विवरण: – मूल्यह्रास, यानी एक परिसंपत्ति के मूल्य में कमी, कई अन्य कारकों के कारण भी हो सकती है जैसे प्रतिकूल बाजार की स्थिति, आदि मशीनरी, उपकरण, मुद्रा संपत्ति के कुछ उदाहरण हैं

भारतीय इतिहास के विभिन्न युग और कालखंड

  #ToughTopics #indianhistory भारतीय इतिहास के युग और कालखंड ******************************* 1.विक्रम संवत (56 ई.पू.)- इसकी शुरूआत उज्जैन के शासक राजाविक्रमादित्य ने शकों पर विजय प्राप्त करने केउपलक्ष्य में की थी| 2.शक संवत (78 ई.)- इसकी शुरूआत शक राजा द्वारा विक्रमादित्य केशासन के 137 वर्ष बाद उज्जैन पर पुनः विजयप्राप्त करने के उपलक्ष्य में की गई थी| 3.गुप्त संवत (320 ई.)- इसकी शुरूआत चन्द्रगुप्त I ने की थी| 4.हर्ष संवत (606

रम्माण उत्सव

रम्माण उत्सव रम्माण उत्तराखंड के चमोली जिले के सलूड़ गांव में प्रतिवर्ष अप्रैल में आयोजित होने वाला उत्सव है। इस गांव के अलावा डुंग्री, बरोशी, सेलंग गांवों में भी रम्माण का आयोजन किया जाता है। इसमें सलूड़ गांव का रम्माण ज्यादा लोकप्रिय है। इसका आयोजन सलूड़-डुंग्रा की संयुक्त पंचायत करती है। रम्माण मेला कभी 11 दिन तो कभी 13 दिन तक भी मनाया जाता है। यह विविध कार्यक्रमों, पूजा और

सल्तनत कालीन चित्रकला- चौरपंचाशिका व लौरचंदा

      दिल्ली सल्तनत के काल में शाही महलों और शाही अन्तःपुरों और मस्जिदों से भित्तिचित्रों के वर्णन प्राप्त हुए हैं। इनमें मुख्यतया फूलों, पत्तों और पौधों का चित्रण हुआ है। इल्तुतमिश (1210-36) के समय में भी हमें चित्रों के सन्दर्भ प्राप्त होते हैं। अलाउद्दीन खिलजी(1296-1316) के समय में भी हमें भित्ति चित्र तथा वस्त्रों पर चित्रकारी और अलह्कत पाण्डुलिपियों पर लघुचित्र प्राप्त होते हैं। सल्तनत काल में हम

तारीख-ए-मुबारक शाही Tarikh-i-Mubarak Shahi

  इस किताब को याहिया बिन अहमद सरहिन्दी (Yahya bin Ahmad of Sirhind) ने लिखा है, जिसे सय्यद वंश (Sayyid ruler) के शासक मुबारक शाह (Mubarak Shah) का आश्रय प्राप्त था। याहिया बिन अहमद ने इस किताब का प्रारम्भ मुहम्मद गोरी (Muhammad of Ghur) के आक्रमण से शुरू करके, सय्यद वंश के तीसरे शासक मुहम्मद शाह तक का इतिहास लिखा है। सय्यद वंश का इतिहास जानने के लिए यह एकमात्र

भू संपत्ति मानचित्र-Cadastral Map

  ये मानचित्र राजस्व प्रयोजन के लिये राज्य सरकार द्वार बनाए जाते हैं। इनका उद्देश्य स्थलाकृतिक विशेषताओं के दिखाने को छोड़कर गाँव, शहर, जागीर और व्यक्तिगत भूमि संपत्ति का परिसीमन है। इनका पैमाना प्राय: एक मील के 16 इंच का है। माप का चुनाव 1:500 से 1:25,000 तक हो सकता है और ये काली स्याही में ही छापे जाते हैं। Wincompete भू कर व राजस्व मानचित्र

इल्मेनाइट

इल्मेनाइट (Ilmenite) एक खनिज है जो प्रधानतः लौह टाइटनेट है। यह टाइटेनियम-लौह आक्साइड खनिज है जिसका आदर्श सूत्र FeTiO3 है। यह काला या ईस्पात-धूसर (steel-gray) रंग का ठोस है जो थोड़ा-थोड़ा चुम्बकीय गुण रखता है। वाणिज्यिक दृष्टि से इल्मेनाइट, टाइटेनियम का सबसे महत्वपूर्ण अयस्क है। यह ज्यादातर तटीय इलाकों में पाया जाता है. अनेक उद्योगों में टाइटेनियम के उपयोग की वृद्धि होने के कारण इल्मेनाइट के खनन तथा उत्पादन की

भारत मे सॉफ्टवेयर उद्योग के जनक-टीसीएस के पहले सीईओ फकीरचंद कोहली

फकीरचंद कोहली को सन 2002 में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। कोहली को भारतीय सॉफ्टवेयर उद्योग के जनक के रूप में जाना जाता है। देश की युवा पीढ़ी कोहली के योगदान से अब तक अनजान ही रही है। कोहली टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज के संस्थापक भी रहे हैं। कार्यक्रम में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश

अफ़्रीका का सबसे छोटा देश – सेशल्स

सेशल्स द्वीप दुनिया के सबसे तेज विकसित होते क्षेत्रों में से एक है, जो आर्थिक, सांस्कृतिक और भाषा की दृष्टि से विवधताओं से भरा हुआ है और जो भारत से सहयोग बढ़ाने का इच्छुक है. दुनिया का यह क्षेत्र ऐतिहासिक रूप से भी भारत से जुड़ा हुआ रहा है. जानते हैं इस क्षेत्र के बारे में कुछ रोचक तथ्य: 1. क्षेत्रफल के लिहाज से अफ्रीका, भारत से 10 गुना बड़ा